Tuesday, December 4, 2018

_कहीं ना कहीं लोगों के मन में कर्मो का डर

,
✍🏻
*_कहीं ना कहीं लोगों के मन में कर्मो
का डर तो हैं ही, तभी तो गंगा पर इतनी भीड है.......!!!_*

*_पर अब इन्हें कौन समझाए साहब की पाप शरीर नहीं  करता बल्कि विचार करते है और गंगा विचारो को नहीं, सिर्फ शरीर को ही धोती है........_*

*_🌴🍃🙏🏻सुप्रभात🌴🍃🙏🏻_*

0 coment�rios to “_कहीं ना कहीं लोगों के मन में कर्मो का डर”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates