Monday, December 3, 2018

फूंक मारकर हम दिए को बुझा सकते है

,


*फूंक मारकर हम दिए को बुझा सकते है
पर अगरबत्ती को नहीं,*
                           
*क्योंकि जो महकता है उसे कौन बुझा सकता है...और जो जलता है वह खुद बुझ जाता है।*

*🙏🏻🌞सुप्रभात🌞🙏🏻*

0 coment�rios to “फूंक मारकर हम दिए को बुझा सकते है ”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates