किसी भी प्रकार की गरीबी हमारा ईश्वर

किसी भी प्रकार की गरीबी हमारा ईश्वर
से उचित सम्बन्ध जोड़ देती है जब कि हर प्रकार की अमीरी, चाहे मन की हो या धन की, हमारा उससे विच्छेद करा देती है।