Wednesday, November 28, 2018

विधाता की अदालत में* *वक़ालत बड़ी प्यारी है*

,
🙏🙏🙏🙏🙏🙏

*विधाता
की अदालत में*
*वक़ालत बड़ी प्यारी है*
          *ख़ामोश रहिये ..कर्म कीजिये*
        *आपका मुकदमा ज़ारी है।*                         
*अपने कर्म पर विश्वास रखिए*
       *राशियों पर नही....!*
*राशि तो राम और रावण की भी*
           *एक ही थी.....!*
  *लेकिन नियती ने उन्हें फल*
    *उनके कर्म अनुसार दिया*

       💐 *सुप्रभात* 💐

0 coment�rios to “विधाता की अदालत में* *वक़ालत बड़ी प्यारी है*”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates