Thursday, November 22, 2018

गुरु कहते है* … *मत सोच की तेरा

,

             
*गुरु
कहते है* …
      *मत सोच की तेरा*
        *सपना क्यों पूरा नहीं होता*
*हिम्मत वालो का इरादा*
         *कभी अधुरा नहीं होता*
*जिस इंसान के कर्म*
                 *अच्छे होते है*
*उस के जीवन में कभी*
             *अँधेरा नहीं होता*

 *

0 coment�rios to “गुरु कहते है* … *मत सोच की तेरा”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates