Sunday, November 18, 2018

आपकी सोच ही* *आपको बड़ा बनाती है

,
*आपकी सोच ही*
   *आपको बड़ा बनाती है
...!!*

    *यदि हम गुलाब की तरह*
       *खिलना चाहते है तो*
   *काँटों के साथ तालमेल की*
        *कला सीखनी होगी*.   
                                                           
     

0 coment�rios to “आपकी सोच ही* *आपको बड़ा बनाती है”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates