आपकी सोच ही* *आपको बड़ा बनाती है

*आपकी सोच ही*
   *आपको बड़ा बनाती है
...!!*

    *यदि हम गुलाब की तरह*
       *खिलना चाहते है तो*
   *काँटों के साथ तालमेल की*
        *कला सीखनी होगी*.   
                                                           
     
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.