आत्मज्ञान का सम्पादन करना

आत्मज्ञान का सम्पादन करना और आत्मकेंद्र में सिथर रहना मानवमात्र
का सबसे पहला और मुख्य कर्तव्य है |