कल जितना "भरोसा" था*

🍁✒🍁✒🍁✒🍁✒🍁✒🍁

        *"रिश्ता" ऐसा हो*
       *जिस पर नाज़ हो,*
  *कल जितना "भरोसा" था*
      *उतना ही आज हो,....!*
   *"रिश्ता" सिर्फ वो नहीं जो*
  *"ग़म या ख़ुशी" में साथ दे,*
 *"रिश्ते" तो वो हैं जो हर पल*
   *अपनेपन
का एहसास दें!*
  *🌺🙏शुभप्रभात🌺🙏*
🍁✒🍁✒🍁✒🍁✒🍁✒🍁
༺꧁ Զเधॆ Զเधॆ꧂༻

   💕 जय श्री कृष्ण जी 💕
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.