जिंदगी के इस *रण* में

.
    जिंदगी
के इस *रण* में
      खुद ही *कॄष्ण* और
खुद ही *अर्जुन* बनना पड़ता है
      रोज अपना ही सारथी
         बनकर जीवन की
          *महाभारत* को
         लड़ना पड़ता है।।

🙏🙏🙏🏻શુભ સવાર🙏🏻🙏🙏

       *|| कृष्णम् वंदे जगद्गुरु ||*