स्वयं अध्यन कर के

स्वयं अध्यन कर के , देख कर , खोखले और खली होकर , तुम एक माध्यम बन जाते हो – तुम परमात्मा
का अंश बन जाते हो . तुम देवत्त्व की उपस्थिति को महसूस कर सकते हो . सभी स्वर्गदूत और देवता , हमारी चेतना के ये विभिन्न रूप खिलने लगते हैं