व्यक्ति का चरित्र एक वृक्ष है

व्यक्ति का चरित्र एक वृक्ष है और उसका मान-सम्मान एक छाया। लेकिन ये कितने दुःख का विषय है कि हम हमेशा छाया की सोचते हैं, लेकिन असलियत
तो वृक्ष ही है
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.