Monday, September 3, 2018

हथेली पर रखकर

,
*हथेली पर रखकर नसीब..*
     *"तु क्यों अपना*
            *मुकद्दर
ढूँढ़ता है.."*

*सीख उस समन्दर से..* 
      *"जो टकराने के लिए*
             *पत्थर ढूँढ़ता है.."*

   🌹 🌻 *सुप्रभात*  🌻 🌹

0 coment�rios to “हथेली पर रखकर”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates