जो इन्सान धीरज

🌹🌺🌹🌺🌹🌺🌹🌺🌹🌺🌺
*”जो इन्सान धीरज रख सकता है..*
      *वह अपनी इच्छानुसार*
      *सब कुछ पा सकता है..*
      *"जहाँ प्रयत्नों
की ऊंचाई*
      *अधिक होती है.*.
      *वहां नसीबों को भी झुकना**
      *पङता है"*

           
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.