Thursday, September 6, 2018

आंखे कितनी भी छोटी

,
*आंखे कितनी भी छोटी क्यो ना हो !!*
       *ताकत तो उसमे सारा*
            *आसमान
देखने*
               *की होती है*   
        *ज़िन्दगी एक हसीन*
    *ख़्वाब है ,, ,, जिसमें जीने*
      *की चाहत होनी चाहिये*
          *ग़म खुद ही ख़ुशी*
           *में बदल जायेंगे*
                  *सिर्फ*
                 *मुस्कुराने*
                     *की*
                   *आदत*
               *होनी चाहिये !!*
🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂   
     🌞🌹सुप्रभात 🌹🌞
*आप का दिन शुभ व मंगलमय हो

0 coment�rios to “आंखे कितनी भी छोटी”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates