गलतियाँ", "विफलता", "अपमान

*"गलतियाँ", "विफलता", "अपमान",*
        *"निराशा
" और "अस्वीकृति",*
            *ये सभी "उन्नति" और*
      *"विकास" का ही एक हिस्सा है।*
*कोई भी व्यक्ति इन सभी पाँचो चीजों को*     
       *सामना किये बिना "जीवन" में*
     *कुछ भी "प्राप्त" नहीं कर सकता।*