एक उम्र वो थी कि जादू में भी


*एक उम्र वो थी कि जादू में भी यक़ीन था,*
*एक उम्र
ये है कि हक़ीक़त पर भी शक़ है.*
*💐रख भरोसा खुद पर*
*क्यो ढूंढता है फरिश्ते*

*पंछीओ के पास कहाँ होते है नक्शे*
*फिर भी ढुंढ लेते है रास्ते*💐💐           
     
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.