जो कार्य आपके सामने

जो कार्य आपके सामने है, उसे तत्काल एवं निष्कपट भाव से करना ही कर्तव्य
है – यही आह के अधिकार की पूर्ति है