Saturday, September 1, 2018

एक चाहत होती

,
✍ *एक चाहत होती है... अपनों के साथ जीने की,वरना पता तो हमें भी है ...कि मरना अकेले ही है!*”
 *मित्रता एवं रिश्तेदारी*
            *"सम्मान" की नही*
       *"भाव" की भूखी होती है...*
                *बशर्तें लगाव*
         *"दिल" से होना चाहिए*
                   *"दिमाग" से नही.*     

*कहा जाता है की एक  "प्रणाम" कई “परिणाम” बदल देता है...!!!*

      

0 coment�rios to “एक चाहत होती”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates