अंदाज कुछ अलग हैं

*अंदाज कुछ अलग हैं,*
        *मेरे सोचने का.!!!*

*सबको मंजिल

मंजिल

का शोक हैं.!!*
     *और मुझे सही रास्तों का.!!!*
 *लोग कहते हैं, पैसा रखो, बुरे वक्त में काम आयेगा...*
*हम कहते है अच्छे लोगों के साथ रहो, बुरा वक्त ही नहीं आयेगा.*
   
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.