Saturday, August 11, 2018

भरोसा खुद पर रखो

,
✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻

*भरोसा खुद पर रखो*
                 *तो ताकत बन जाती है*
*और दूसरों पर रखो तो*
                 *कमजोरी बन जाती है…!*
*आप कब सही थे...*
                *इसे कोई याद नहीं रखता।*
*लेकिन आप कब गलत थे...*
                *इसे सब याद रखते हैं।*

*पृथ्वी पर कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है"*
   *"जिसको समस्या न हो"*
           *"और"*
*"पृथ्वी पर कोई समस्या ऐसी नहीं है"*
*"जिसका कोई समाधान न हो...*

*मंजिल  चाहें  कितनी भी  ऊँची  क्यों न हो,  रास्ते  हमेशा  पैरों  के  नीचे  ही  होते है।*

    

0 coment�rios to “भरोसा खुद पर रखो”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates