Friday, August 31, 2018

कण कण में विष्णु

,
🏡🏡🏡
*कण कण में विष्णु
बसें,*
           *जन जन में श्री राम!*
*प्राणों में माँ जानकी,*
            *मन में बसे हनुमान!!*
✌ *दो चीजों को कभी व्यर्थ*
*नहीं जाने देना चाहिए*.....

          *अन्न के कण को*
                *"और"*
           *आनंद के क्षण को*

 *हमेशा मुस्कुराते रहिए*....😊
*कभी अपने लिये कभी अपनों के लिये

0 coment�rios to “कण कण में विष्णु”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates