केवल न्याय में ही

“केवल न्याय में ही
वास्तविक सुख है, अन्याय करने वाले को कभी न कभी दु:खी होना पड़ता है”
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.