Wednesday, August 15, 2018

केवल न्याय में ही

,
“केवल न्याय में ही
वास्तविक सुख है, अन्याय करने वाले को कभी न कभी दु:खी होना पड़ता है”

0 coment�rios to “केवल न्याय में ही ”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates