Sunday, August 5, 2018

मन की आंखो से*

,
*मन की आंखो से*
    *रब का दीदार करो,*
🍁🌿🍁🌿🍁🌿🍁🌿🍁
         *दो पल का है अन्धेरा*
           *बस सुबह का इन्तजार करो।*
🌿🍁🍁🌿🍁🌿🍁🌿🍁🌿
                  *क्या रखा है*
            *आपस के बैर मे ए यारो,*
🍁🌿🌿🍁🌿🍁🌿🍁🌿🍁🌿
            *छोटी सी है ज़िंदगी बस*
           *हर किसी से प्यार करो...!*

0 coment�rios to “मन की आंखो से*”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates