Friday, August 31, 2018

क्षमा "उन फूलों के समान हैं

,

✍🏻.... *"क्षमा "उन फूलों के समान हैं जो कुचले जाने के बाद भी "खुशबू
"देना बंद नहीं करते* ......✍🏻
      🙏🏻🌹🌹🌹🌹🙏🏻
             *हमेशा खुश*
                *रहना  चाहिए,*
                   *क्योंकि*
               *परेशान होने से*
              *कल की मुश्किल*
                *दूर नहीं होती*
                   *बल्कि....*
              *आज का सुकून*
               *भी चला जाता*
                     *है !!

0 coment�rios to “क्षमा "उन फूलों के समान हैं ”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates