कभी साथ बैठो.

*कभी साथ बैठो...*
*तो कहूँ कि दर्द क्या है...*

*अब यूँ दूर से पूछोगे...*
*तो ख़ैरियत ही कहेंगे !!!*

 *सुख मेरा काँच सा था~*
 *न जाने कितनों को चुभ* *गया..!!!*
 *किसी ने मुझ से पूछा कि पूरी जिंदगी में क्या किया ?*
*मैंने हसकर जवाब दिया ,*
*किसी के साथ छल कपट नहीं किया..*
      *जय श्री राधेकृष्णा*
             *सुप्रभात*
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.