Friday, August 10, 2018

मन ऐसा रखो कि*

,
🎋🌵🐲🌿☘🍀🎍🌾
💕 *मन ऐसा रखो कि* 
        *किसी को बुरा न लगे* ।💕
💕 *दिल ऐसा रखो कि*
       *किसी को दुःखी न करें*।
*रिश्ता ऐसा रखो  कि*
       *उसका अंत न हो*

👌 *कोई भी व्यक्ति हमारा* *मित्र या शत्रु बनकर संसार में नही आता*.. *हमारा व्यवहार और शब्द ही लोगो को मित्र और शत्रु बनाते है*..
          🌹 *सुप्रभात 🌹
🌹आपका दिन मंगलमय हो*🌹

0 coment�rios to “मन ऐसा रखो कि*”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates