Sunday, August 12, 2018

कर्तव्य कभी आग

,
कर्तव्य कभी आग और पानी की परवाह नहीं करता | कर्तव्य-पालन में ही चित्त की शांति है |

0 coment�rios to “कर्तव्य कभी आग”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates