फितरत किसी की

*फितरत किसी की*
*ना आजमाया कर ऐ जिंदगी*।

*हर शख्स अपनी हद में*
*बेहद लाजवाब होता है*..✍

.  *सुप्रभात*  ...🌹
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.