माटी चुन चुन महल बनाया

*माटी चुन चुन महल बनाया,*
           *लोग कहें घर मेरा ।*
*ना घर तेरा, ना घर मेरा ,*
         *चिड़िया रैन बसेरा ।*
*कौड़ी कौड़ी माया जोड़ी,*
        *जोड़ भरेला थैला ।*
*कहत कबीर सुनो भाई साधो,*
        *संग चले ना धेला ।*
*उड़ जाएगा हंस अकेला!!!*
*जग दो दिन का मेला!!!!*

           🌹स्नेह वंदन 🌹
व्यस्त रहे, मस्त रहे,  स्वस्थ रहे।