Thursday, July 26, 2018

जो रिश्ते सच में गहरे

,
*जो रिश्ते सच में गहरे होते हैं वो कभी अपनेपन का शोर नहीं मचाते...*
*सच्चे रिश्ते शब्दों से नहीं दिल और आंखो से बात करते हैं..*

*यूँ ही नहीं आती,*
*खूबसूरती रंगोली में ।*

*अलग-अलग रंगो को*
*"एक" होना पड़ता है।*

*सुप्रभात*🌹

0 coment�rios to “जो रिश्ते सच में गहरे”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates