उन्हें कामयाबी में सुकून नजर आया* *तो वो दौड़ते गए

*उन्हें कामयाबी में सुकून नजर आया*
*तो वो दौड़ते गए,*
*हमें सुकून में कामयाबी दिखी*
*तो हम ठहर गए...!*

*ख़्वाईशो के बोझ में बशर*
*तू क्या क्या कर रहा है..*
*इतना तो जीना भी नहीं*
*जितना तू मर रहा है...*
                    
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.