Monday, July 30, 2018

मुट्ठी भर ही चाहिए, तो सिकँदर हो जाओ,*

,
🍇🍇🍇🍇🍇🍇🍇🍇
: *मुट्ठी भर ही चाहिए, तो सिकँदर हो जाओ,*


*और अगर पूरी क़ायनात चाहिए, तो कबीर होना होगा..*
*जब*
*मन ही अंधा हो,*

*तो*
*आँखे किसी*
*काम की नहीं रहती .......!*🌷🌷

 *अगर मुस्कुराहट के लिए ईश्वर का शुक्रिया नहीं किया,*

*तो आँखों मे आये आँसुओं के लिये शिकायत का हक़ कैसा??*

       *सुप्रभात जय श्री कृष्णा*

0 coment�rios to “मुट्ठी भर ही चाहिए, तो सिकँदर हो जाओ,*”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates