Sunday, July 29, 2018

आत्मा का शरीर से

,
*आत्मा का शरीर से,*
       *निकल जाना मुक्ति नहीं है,*

 *बल्कि सांसों के चलते मन से,*
       *इच्छाओं का निकल जाना ही*
                           *मुक्ति एवं मोक्ष है..!!!*

🙏🏼 *सुप्रभात* 🙏🏼

0 coment�rios to “आत्मा का शरीर से”

Post a Comment

 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates