रिश्तों में वैसा ही

🍘📯🍘📯🍘📯🍘📯
✍   _*रिश्तों में वैसा ही*_
       _*संबंध होना चाहिए…*_
                _*जैसे*_
         _*हाथ और आँख*_
           _*का होता है।*_

       _*हाथ पर चोट लगती है,*_
         _*तो आँखों से आँसू*_
             _*निकलते हैं…*_
                _*और*_
        _*आँसू आने पर हाथ ही*_
       _*उनको साफ करता है…!!*_


         🌞 _*सुप्रभात*_ 🌞

Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.