मंज़िल मिल ही जाएगी

मंज़िल मिल ही जाएगी एक दिन भटकते भटकते ही सही
,गुमराह तो वो हैं जो डर के घर से निकलते ही नहीं,
खुशियां मिल जायेंगी एक दिन रोते रोते ही सही,
कमज़ोर दिल तो वो हैं जो हँसने की कभी सोचते ही नहीं।
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.