रिश्तों को शब्दों का

*रिश्तों को शब्दों का ,*
 *मोहताज  ना बनाइये ..*

 *अगर अपना कोई खामोश हैं तो*
 *खुद ही आवाज लगाइये ..!!*
*************************
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.