आपकी आँखों को



*आपकी आँखों को*
                      *जगा दिया हमने;*
*सुबह का फ़र्ज़ अपना*
                     *निभा दिया हमने;*
 
            *मत*
     *सोचना कि बस*
*यूँ ही तंग किया हमने;*

                       *उठकर*
           *सुबह भगवान के साथ*
      *आपको भी याद किया हमने*

Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.