कुछ बोलने और तोड़ने में

*कुछ बोलने और तोड़ने में*
            *केवल एक पल लगता है*
          *जबकि बनाने और मनाने में*
            *पूरा जीवन लग जाता है।*
                       *प्रेम सदा*
          *माफ़ी माँगना पसंद करता है,*
                 *और अहंकार सदा*
          *माफ़ी सुनना पसंद करता है..
     
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.