चन्द्रगुप्त ने पुछा

*🍃 चन्द्रगुप्त ने पुछा 🍃*
                *अगर किस्मत*
    *पहले ही लिखी जा चुकी है तो,*
      *कोशिश कर के क्या मिलेगा ?*

        *🍃 चाणक्य ने कहा 🍃*
*क्या पता किस्मत में लिखा हो की,*
    *कोशिश करने से ही मिलेगा.!!* 
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.