Friday, July 15, 2016

दिल की बात ......

,
दिल की बात साफ़ साफ़ 
कह देनी चाहिए.
क्योंकि.....
बता देने से ' फैसले ' होते हैं....
ना बताने से ' फ़ासले '...

💐💐💐💐💐💐💐


Wednesday, July 13, 2016

इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं!

,
 उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको!
खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको!
हम तो कुछ देने के काबिल नहीं है!
देने वाला हज़ार खुशिया दे आपको! ...

इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं!
गम - ऐ - जुदाई से सब डरते हैं
हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत!
हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं!...


 किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नहीं !
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नहीं !
गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या !
ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं ! ..



माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये!
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये!
दिल की क्या औकात आपके सामने!
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये! ...




जब भी चाहा सिर्फ तुम्हे चाहा..

,
जब भी चाहा सिर्फ तुम्हे चाहा.. पर कभी तुम से कुछ नही चाहा..!!✍🏼 😍😘❤


हर मायूस को हँसाने का कारोबार हैअपना.........!

दिलों का दर्द खरीद लेते है बस यही रोजगार है अपना.........


 .....लफ़्ज़ों पे वज़न रखने से
नहीं झुकते मोहब्बत के पलड़े साहिब...
हलके से इशारे पे ही
ज़िंदगियां क़ुर्बान हो जाती हैं......


 बात सिर्फ एहसासों की है,
बिना मिले भी कई रिश्ते सदियां गुजार देते हैं..



मित्रो जोईये छे.... 

कोई काम के कारण वगर.... 

याद करे तेवा....



ना जाने रोज कितने लोग रोते रोते सोते है,
और फिर सुबह झूठी मुस्कान लेकर सबको सारा दिन खुश रखते है !!


Saturday, July 9, 2016

अगर तुम न होते .....

,
अगर तुम न होते तो ग़ज़ल कौन कहता!
तुम्हारे चहरे को कमल कौन कहता!
यह तो करिश्मा है मोहब्बत का!
वरना पत्थर को ताज महल कौन कहता!...


माना की तुम ....

,
माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये!
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये!
दिल की क्या औकात आपके सामने!
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये! ...

एक गुलाब ही काफ़ी था

,
💕💕 एक गुलाब ही काफ़ी था आज के इस दिन के लिये...

उन्होंने गुलदस्ता भेजकर सारे शहर में तहलका मचा दिया....✍🏻💕

बेशक थोड़ा इंतजार मिला हमको....

,
बेशक थोड़ा इंतजार मिला हमको, पर दुनिया का सबसे हसीं यार मिला हमको, न रही तमन्ना अब किसी जन्नत की, तेरी दोस्ती में वो प्यार मिला हमको.

हम भी फूलों की तरह......

,
बस इसी बात ने उन्हेँ शक मे डाल दिया....

उफ्फ इतनी मोहब्बत... कोई मतलब तो होगा...


हम भी फूलों की तरह अक्सर तनहा ही रहते हैं,
कभी खुद से टूट जाते है तो कभी कोई और तोड़ जाता है 



ए खुदा मौसम को इतना रोमांटिक भी ना कर,
.
.
कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनकी मेहबूबा नहीं..."



 है कोई वकील इस जहान में, जो हारा हुआ इश्क जीता दे मुझको.

अगर तुमसे ना मिलते तो,,,.....

,
🌹रस्ते भर रो..रो.. कर पूछा... पांव के छालों ने......
बस्ती कितनी दूर बसा ली दिल में बसने वालों ने......✍💜💜


 अगर तुमसे ना मिलते तो,,,
,,,
शायद ये राज़ ही रह जाता,,,
कि मोहब्बत क्या होती है...✍💜💜
4u.....


 ख़ुशी उनको नहीं मिलती, जो अपनी शर्तों पे जिंदगी जिया करते हैं
ख़ुशी तो उनको मिलती है, जो दुसरों की ख़ुशी के लिए, अपनी शर्तों को बदल दिया करते हैं"...


छुप छुप कर क्यु पड़ती हो अल्फाजो को मेरे....!!

सिधे दिल ही पढ़ लो
पहला अक्षर तुम से शुरू....सांसो तक तुम हो...✍💜💜


बहुत जीये उनके लिए......

,

 बहुत जीये उनके लिए ,,
जिनको हम पसंद करते थे,,,
,,,
अब जीना है ,,
उनके लिए जो हमें पसंद करते हैं...!


हम तो नादान हे क्या समझेगें मोहब्बत के उसूल....बस...तूझे चाहा था , तूझे चाहते है , और तूझे ही चाहेंगे

दिल लगाने से अच्छा हे पौधे लगा ओ
.
वो घाव नही कम से कम छाँव तो देंगे:)


रिश्ते और विश्वास दोनो ही
मित्र है.....

रिश्ते रखो या ना रखो 
   पर
विश्वास जरुर रखना...

जहां विश्वास होता है ,
   वहां 
रिश्ते अपने आप बन जाते हैं.....!!



 हथेली पर रखकर नसीब,
'तु क्यों अपना मुकद्दर ढूँढ़ता है..'

सीख उस समन्दर से,
"जो टकराने के लिए पत्थर ढूँढ़ता है.."



 कभी नीम सी जिंदगी । 
कभी नमक सी जिंदगी ।

मैं ढूंढता रहा उम्र भर 
एक शहद सी जिंदगी। 

ना शौक बङा दिखने का...
ना तमन्ना भगवान होने की...

बस एक आरजू ...
जन्म सफल हो....
कोशिश "इंसानं" होने की..
🙏शुभ प्रभात🙏

Monday, July 4, 2016

पहली बारिश का नशा

,
पहली बारिश का नशा ही कुछ अलग होता हैं,पलको को छूते ही सीधा दिल पे असर होता हैं।

सुनो ये बादल जब भी बरसता है,मन तुझसे ही मिलने को तरसता है..!!मरहम लगा सको तो गरीब के जख्मो पर


ज़िन्दगी ये चाहती है कि ख़ुदकुशी कर लूँ,मैं इस इन्तज़ार में हूँ कि कोई हादसा हो जाए।


अपनी जिंदगी के अलग असूल हैं,यार की खातिर तो कांटे भी कबूल हैं,हंस कर चल दूं कांच के टुकड़ों पर भी,अगर यार कहे, यह मेरे बिछाए हुए फूल हैं.


 दर्द से दोस्ती हो गई यारों,जिंदगी बे दर्द हो गई यारों,क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा,दूर तक रोशनी तो हो गई यारो।

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में,हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में.खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको,देता हे ये दिल दुआ बार–बार आपको.

वो दिल क्या जो मिलने की दुआ न करे,तुम्हें भुलकर जिऊ यह खुदा न करे,रहे तेरी दोस्ती मेरी जिन्दगानी बनकर,यह बात और है जिन्दगी वफा न करे|


 मुलाकात भी कभी , आँसू दे जाती है ,
नजरें भी कभी , धोखा दे जाती है ,
गुजरे हुये वक्त को , याद करके देखिये ,
तनहाई भी कभी कभी , सुकून दे जाती है ,

 प्यार तो ज़िन्दगी को सजाने के लिए है; पर
ज़िन्दगी बस दर्द बहाने के लिए है; मेरे अंदर
की उदासी काश कोई पढ़ ले; ये हँसता हुआ
चेहरा तो ज़माने के लिए है।😎♡♡♡
 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates