Sunday, January 17, 2016

Best Hindi sms.....

,
 अपनी हालात का ख़ुद अहसास नहीं है मुझको मैंने औरों से सुना है कि परेशान हूं मैं....

 लाख समझाया मगर ज़िद पे अड़ी है अब भी........कोई उम्मीद मेरे पीछे पड़ी है अब भी...!!

अजब पहेलियाँ हैं मेरे हाथों की इन लकीरों में; 
सफर तो लिखा है मगर मंज़िलों का निशान नहीं।

ज़िन्दग़ी के सफ़र से....बस इतना ही सब सिखा है,
सहारा कोई नहीं देता...... 
धक्का देने को, हर शख्स तैयार बैठा है..

 बचपन में एक बार मैं घर से भाग गया था
लगभग पांच किलोमीटर भागकर हाँफ़नेके
बाद
ये समझ आया कि सिर्फ़ फ़िल्मी हीरो ही
दौड़ते-दौड़ते बड़े होते है

हमने सोचा था की हर मोड़ पर याद करेंगे तुझे पर कमबख़त पूरी सड़क ही सीधी निकली कोई मोड़ ही नहीं आया।
 

Shayaribazar Copyright © 2011 | Template design by O Pregador | Powered by Blogger Templates