Latest Hindi massages....


शायद फिर वो तक़दीर मिल जाये जीवन के वो हसीं पल मिल जाये चल फिर से बैठें वो क्लास कि लास्ट बैंच पे शायद फिर से वो पुराने दोस्त मिल जाएँ ।


कौन होता है दोस्त? दोस्त वो जो बिन बुलाये आये, बेवजह सर खाए, जेब खाली करवाए, कभी सताए, कभी रुलाये, मगर हमेशा साथ निभाए.

सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती! न करेंगे किसी से वादा! पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा की करना पड़ा दोस्ती का वादा!

अपनी दोस्ती का बस इतना सा असूल है, जो तू कुबूल है.... तो तेरा सब कुछ कबूल है..


दोस्तो से अच्छे तो मेरे दुश्मन निकले,, कमबख्त हर बात पर कहते हैं कि तुझे छोडेंगे नहीं..


: कुछ तुम्हारी निगाह काफिर थी,कुछ मुझे भी खराब होना था।


रफ्तार कुछ जिंदगी की यू बनाये रखी हैहमने..कि दुश्मन भले आगे निकल जाए पर दोस्त कोई पिछे ना छुटेगा.
 तेरी सूरत को जब से देखा है मेरी आँखों पे लोग मरते हैं..


इश्क दो जिंदगी का अफसाना हैं ! इश्क का अपना ही एक तराना हैं !! पता हैं सब को मिलेंगे सिर्फ आंसू ! पर न जाने दुनियाँ में हर कोई क्यूँ इश्क का ही दीवाना हैं !!


थोड़ी थोड़ी ही सही मगर बातें तो किया करो ,चुप रहते हो तो भूल जाने का एहसास होता है..


 खूश्बु कैसे ना आये मेरी बातों से यारों,मैंने बरसों से एक ही फूल से जो मोहब्बत की है ।.
Always true. .4


 जब आंसू आए तो रो जाते हैं, जब ख्वाब आए तो खो जाते हैं, नींद आंखो में आती नहीं, बस आप ख्वाबो में आओगें,यही सोच कर सो जाते हैं.


ग़लत फ़हमियों ने कर दी दोनो मैं पैदा दूरियाँ...........वरना फितरत का बुरा तू भी नही, मैं भी नही...!!


 उनकी चाल ही काफी थी इस दिल के होश उड़ाने के लिए ,...अब तो हद हो गई जब से वो पाँव में पायल पहनने लगे ..


 अपने ख्यालों पर कैसे करें यकीन , अपने होठों से कुछ कहो तो जाने , यूँ चुप रहकर कब तक मिलेगा तुम्हे सुकून , पास आकर मौहब्बत का इजहार करो तो जाने ..


दोस्ती करो तो हमेशा मुस्कुरा के, किसी को धोखा ना दो अपना बना के, कर लो याद जब तक हम जिन्दा हैं, फिर ना कहना चले गये दिल में यादे बसा के..


लोगो से कह दो हमारी तकदीर से जलना छोड़ दे. हम घर से दवा नही माँ की दुआ लेकर निकलते है ..


मैं वो खेल नहीं खेलता जिसमें जितना तय हो, क्योंकि जीतने का मजा तब है जब हारने का रिस्क हो ..


 "हर खुशी दिल के करीब नहीं होती,
ज़िंदगी ग़मों से दूर नहीं होती,
इस दोस्ती को संभाल कर रखना,
क्यूंकि दोस्ती हर किसी को नसीब नहीं होती."


कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर हम दुनिया लुटा देते;
हर एक ने धोखा दिया, किस-किस को भुला देते;
अपने दिल का ज़ख्म दिल में ही दबाये रखा;
बयां करते तो महफ़िल को रुला देते।


जिन्दगी एक रात है, जिस में ना जाने कितने ख्वाब हैं, जो मिल गया वो अपना है, जो टुट गया वो सपना है, ये मत सोचो की जिन्दगी में कितने पल है, ये सोचो की हर पल में कितनी जिन्दगी है, इसलिए… जिन्दगी को जी भर कर जी लो…

.समझौतों की भीड़-भाड़ में सबसे रिश्ता टूट गया;
इतने घुटने टेके हमने आख़िर घुटना टूट गया;
ये मंज़र भी देखे हमने इस दुनिया के मेले में;
टूटा-फूटा ​ बचा​ रहा है, अच्छा ख़ासा टूट गया।
Sponsored ads.

No comments

Powered by Blogger.